Sunday, 30 December 2018

DIGITAL MARKETING क्या है?डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार



वर्तमान में इंटरनेट का रुझान बढ़ने के साथ-साथ ऑनलाइन क्षेत्र में में कई नए कैरियर के अवसर देखने को मिले हैं। इन्हीं में से एक नया क्षेत्र उभरकर आया है  जो की है डिजिटल मार्केटिंग(Digital Marketing)। इंडिया को डिजिटल बनाने के लिए “डिजिटल इंडिया” को बहुत बढ़ावा मिला था तो जाहिर सी बात है आपको डिजिटल मार्केटिंग के बारे में भी पता होना चाहिए।
डिजिटल मार्केटिंग को इंटरनेट मार्केटिंग/ऑनलाइन मार्केटिंग के नाम से भी जाना जाता है।

वर्तमान में Online Shopping,Ticket Booking, FOOD Order या कोई भी online Order Placement करने से पहले 80% Users उस बारे में Research करते है इसीलिए Digital Marketing के द्वारा Companies, Bloggers, E-Commerce Platform आदि को internet के माध्यम से इन Users तक पहुचने के लिए Digital Marketing की जरूरत पड़ती है ताकि ऑनलाइन मार्केटिंग के business में इतना महत्वपूर्ण होने व इसका उपयोग से ज्यादा फायदा उठाने के लिए Digital Marketing Managers की ज़रूरत पड़ती है।



Digital-Marketing-kya-hai



बदलते दौर के साथ आज मार्केटिंग का तरीका बदल गया है,पहले की तरह आज घर घर जाकर  प्रोडक्ट/बिजनेस की मार्केटिंग करना संभव नहीं है।आज ऑनलाइन क्षेत्र में कई नई ऑनलाइन बिजनेस विद्यमान है जिन्हें अपनाकर अच्छा पैसा कमाया जा सकता है लेकिन किसी भी ऑनलाइन बिजनेसेस को प्रमोट करने के लिए मार्केटिंग की आवश्यकता होती है जिससे कि ज्यादा से ज्यादा ग्राहकों को बिजनेस से जोड़ा जा सके और इसी के तहत डिजिटल मार्केटिंग का उदय हुआ है तो आज हम इस आर्टिकल में जानने वाले हैं कि:-

    ◆Digital Marketing/Online Marketing क्या है?
    ◆Types Of Digital Marketing(डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार)
    ◆Advantage Of Digital Marketing(डिजिटल मार्केटिंग के फायदे)
    ◆online Digital Marketing Course( डिजिटल मार्केटिंग कोर्स)
   ◆Top Assets Of Digital Marketing
   ◆Career And Jobs In Digital Marketing

Digital Marketing क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग क्या है? जैसा कि देखने से ही पता चल रहा है कि डिजिटल मार्केटिंग दो शब्दों से मिलकर बना है-डिजिटल और मार्केटिंग।
तो चलिए जानते इन दोनों शब्दों का क्या अर्थ निकलता है।

Digital(डिजिटल):-
डिजिटल को सामान्यतया इंटरनेट/कंप्यूटर/स्मार्टफोन से जोड़ा जाता है ऐसे में जो भी डिवाइस इंटरनेट के माध्यम से चलते हैं,वह सभी डिजिटल के अंतर्गत आते है।डिजिटल का हिस्सा दुनिया के वे सब व्यक्ति है जो कि किसी भी माध्यम से इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं।

Marketing(मार्केटिंग):-
मार्केटिंग का हिंदी में शाब्दिक अर्थ होता है विपणन। मार्केटिंग के द्वारा अपनी Services या Product को लोगों तक पहुंचाने के लिए जो भी तरीके अपनाए जाते हैं,उसे मार्केटिंग कहते हैं। शुरुआत में किसी प्रोडक्ट के बारे में केवल उसके उपभोक्ता जानता है जो किसी भी नए प्रोडक्ट के बारे में लोगों तक पहुंचाने के लिए मार्केटिंग का सहारा लिया जाता है।

   “ वह सभी Marketing जो Digital Devices(Computer/ Smartphone etc) के उपयोग से की जाती है Digital Marketing कहलाती है।”

अर्थात इन दोनों को मिलाने पर डिजिटल मार्केटिंग का अर्थ है कि INTERNET के द्वारा अपने प्रोडक्ट/सर्विस/व्यवसाय को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाकर उन्हें Attract&Convert करना। डिजिटल मार्केटिंग में सफलता की  प्रायिकता उतनी अधिक होगी जितना अधिक वह प्रोडक्ट लोगों तक पहुंचेगा।
Digital Marketing के अंतर्गत Social Media, Websites,Seo आदि का सहारा लिया जाता है।


Types OF DIGITAL MARKETING( डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार)

डिजिटल मार्केटिंग कई प्रकार की होती है।इसमें डिजिटल मीडिया के अलग-अलग माध्यमों का प्रयोग किया जाता है जिससे कि अधिक से अधिक कस्टमर तक पहुंचा जा सके।हर व्यवसाय व सर्विस के लिए डिजिटल मार्केटिंग के अलग अलग माध्यम से लोगो तक पहुंचना,उन्हें ज्यादा फायदा दे सकता है तो चलिए जानते हैं डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार क्या है(Types of digital Marketing)

डिजिटल मार्केटिंग वैसे तो कई प्रकार से की जा सकती है लेकिन यहां पर बेस्ट Digital Marketing Platform के बारे में बात करेंगे जिन Digital Marketing strategies का इस्तेमाल ज्यादातर किया जाता है।वैसे तो Business Promotion के लिए Internet पर की जाने वाली सभी Activity Internet Marketing का ही हिस्सा होती है।

1.SMM (SOCIAL MEDIA MARKETING)(सोशल मीडिया मार्केटिंग)
सोशल मीडिया इंटरनेट पर सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण प्लेटफॉर्म है।Social Media Marketing ,Digital Marketing का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।
“Social Media Marketing में Social Platform या Websites का उपयोग करके अपने Product/Services को Promote किया जाता है।”

SOCIAL MEDIA PLATFORM में फेसबुक Number 1 प्लेटफार्म है।इसके बाद Youtube,Twitter, Instagram व Snapchat आते है।सोशल मीडिया मार्केटिंग में Product को प्रमोट करने के लिए सभी Social Network Sites का ज्ञान होना चाहिए।सोशल मीडिया मार्केटिंग के द्वारा Target Audiance तक आसानी से पहुँच सकते है और यह सस्ती भी होती है।

2.CONTENT MARKETING(कंटेंट मार्केटिंग):-
Content Marketing एक ऐसी कला है,जिसमें कोई Marketer, StoryTelling व ValueAble Information Provide करके अपने ब्रांड के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करता है और Target Audiance को कंपनी के लिए एक Profitable Coustmer के रूप में Convert करने का काम करता है।”
CONTENT MARKETING का लक्ष्य विज्ञापन से परे हटकर Partner Users के साथ एक Healthy Relationship बनाना होता है।Content Marketing,Content पर निर्भर होती है और SEO MARKETING से जुड़ी होती है।

3.SEO(SEARCH ENGINE OPTIMIZATION)
Search Engine Optimization एक ऐसी तकनीक है जिसके द्वारा ब्लॉग या वेबसाइट पर Content को Optimize कर Organic एंड Natural Traffic को Blog पर लाने के लिए Target किया जाता है।”



Search Engine Optimization में सर्च इंजन जैसे कि Google,Bing,Yahoo में सर्च किए गए कि Keyword का उपयोग उस वेबसाइट या ब्लॉग पर किया गया हो तो उस Website को Search Engine, Seo के अनुसार वरीयता देता है।वेबसाइट या ब्लॉग का Seo कई प्रकार से किया जाता है जिनमें से कुछ को गूगल पसंद करता है और कुछ गलत Seo Technices को गूगल ना पसंद करता है और इन गलत Seo Technices के कारण गूगल वेबसाइट को Penalize कर सकता है।
Search Engine Optimization,सोशल मीडिया मार्केटिंग व कंटेंट मार्केटिंग एक दूसरे से जुड़े हुए हैं।

4.SEM(SEARCH ENGINE MARKETING)
SEM या सर्च इंजन मार्केटिंग में सर्च इंजन से Paid Traffic को प्राप्त किया जाता है।सर्च इंजन कुछ पैसे चार्ज करके किसी Keywords के लिए Ad Space देता है और particuler keyword के लिए एड्स को शो करवाया जाता है।
गूगल सर्च इंजन में Ads को दिखाने के लिए Google Adword तथा Bing सर्च में Ads दिखाने के लिए Bing Ads पर Singup किया जाता है|
उदाहरण के तौर पर सर्च इंजन में जब भी कोई Keyword सर्च किया जाता है तो सबसे ऊपर 2 से 3 रिजल्ट को दिखाया जाता है वह Advertiser द्वारा Paid होते हैं और Side में उनपर Ad लिखा होता है।

5.PPC(PAY-PER-CLICK Advertising)
PPC ADVERTISING में ADVERTISER के द्वारा विज्ञापन पर PER CLICK के हिसाब से चार्ज PAY किया जाता है।इस प्रकार के विज्ञापन का अवसर SEM के साथ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म भी देते है।

6.Affiliate Marketing
एफिलिएट मार्केटिंग में ब्लॉग या वेबसाइट Owner किसी कंपनी के Affiliate link को यूज़ करके अपने ब्लॉग यूजर्स को उस company के Prodcut या service लेने के लिए Link के माद्यम से भेजते है,इसके लिए उस कंपनी के द्वारा कुछ कमीशन Blog Owner को दिया जाता है।Affiliate Marketing का प्रयोग Blog/Website Owner सबसे ज्यादा करते है।
Affiliate Marketing को सोशल मीडिया,Youtube, Blog आदि के द्वारा कर सकते है।

7.Email Marketing(ईमेल मार्केटिंग)
ईमेल मार्केटिंग पिछले कुछ समय में बहुत ही तेजी से बड़ा है।ईमेल मार्केटिंग सबसे ज्यादा कन्वर्जन रेट देने वाली मार्केटिंग है।इसके लिए आपको यूज़र्स का ईमेल को Collect करना होता हैं और उन्हें समय-समय पर अपने सर्विस/प्रोडक्ट/कंटेंट आदि के बारे में Mails के द्वारा अपडेट देना होता है।

Advantage Of Digital Marketing(डिजिटल मार्केटिंग के फायदे)

    ◆DIGITAL MARKETING,Traditional        Marketing से सस्ती होती है।
   ◆डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा SERVICE से RELATED यूजर को TARGET कर सकते है।
   ◆डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा दुनिया के किसी भी कोने में Affordable Price में पहुंच बना सकते है।
   ◆ डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा अपने विज्ञापन के Measueable Result का डाटा ट्रैक कर सकते हैं।
   ◆डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा ऑनलाइन सेल्स व Conversion rate को बढ़ा सकते है।
   ◆डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा blog content या प्रोडक्ट/Digital Services आदि को User to User कनेक्शन के साथ सोशल मीडिया पर वायरल कर सकते है।
   ◆डिजिटल मार्केटिंग को Internet से सिख सकते है।इसके लिए किसी डिग्री की आवश्यकता नही होती है।


Online Digital Marketing Course(ऑनलाइन डिजिटल मार्केटिंग कोर्स कैसे करे?)

ऑनलाइन डिजिटल मार्केटिंग कोर्स करने के लिए इंटरनेट पर आपको बहुत से कोर्स अवेलेबल मिलेंगे।इंटरनेट पर Digital Marketing Course सर्च कर सकते हैं।इसी के साथ ऑनलाइन डिजिटल मार्केटिंग कोर्स गूगल के द्वारा भी करवाया जाता है।

Digital Marketing में Social Media Presence, SEO,SEM,INTERNET KNOWLEDGE ,WEBSITE CONTENT Writting Skill व Advertisement Campaign आदि की नॉलेज महत्वपूर्ण होती है।

ऑफ लाइन डिजिटल मार्केटिंग कोर्स की बात करें तो इस Course के लिए 20 से 50 हज़ार तक चार्ज कर लिया जाता है लेकिन फिर भी वह पूर्णता हासिल नहीं हो पाती है।डिजिटल मार्केटिंग एक बदलाव वाला क्षेत्र है जिस में लगातार सीखने की जरूरत होती है और इसे ऑनलाइन सस्ते में और आसानी से सीखा जा सकता है।

Top Assets Of Digital Marketing

डिजिटल मार्केट के लिए Assets होते हैं जो कि आपके पास उपलब्ध होना चाहिए तो चली जानते हैं कि Digital Marketing Assests कोनसे है।

        ◆आपकी Website/Blog
        ◆ब्लॉग कंटेंट(Blog Content)
        INFOGRAPHICS
        ◆EBOOKS OR WHITEPAPERS
        ◆Social Media Channels (Facebook,Youtube,Instagram,Twitter Etc)
       ◆Branding Assets(Logos,Fonts Etc)
       ◆Earned Online Coverage (Social Media,PR व REVIEWS)


Career And Jobs In Digital Marketing(डिजिटल मार्केटिंग में करियर एंड जॉब्स)
शौकिया तौर पर डिजिटल मार्केटिंग को किसी भी उम्र में सीखा जा सकता है. लेकिन इस डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में नौकरी पाने के लिए ग्रेजुएट होना जरूरी होता है.अगर आप Students Marketing,Communication या फिर Graphic Design में Graduate हैं,वे डिजिटल मार्केटिंग में करियर बना सकते हैं.
Jobs In Digital Marketing:-
◆Web Designer(वेब डिज़ाइनर)
◆Content Marketing Manager(कंटेंट मार्केटिंग मैनेजर)
◆SOCIAL MEDIA MANAGEMENT(सोशल मीडिया मैनेजमेंट)
◆APP DESIGNER(एप्प डिज़ाइनर)

डिजिटल मार्केटिंग करने के बाद स्टूडेंट्स के लिए काफी अच्छे Scope हैं. वे इन जगहों पर काम कर सकते हैं
◆Digital Marketing Agency(डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी)
◆E-Commerce Company(ई-कॉमर्स कंपनी)
◆Online Shopping Websites(देशी और विदेशी ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट्स)
◆Service Providing Companies(सर्विस प्रोवाइडिंग कंपनीज)
◆RETAIL Companies(रिटेल कंपनीज)
डिजिटल मार्केटिंग एक ट्रेंडिंग क्षेत्र है।यहां पर आने वाले समय में जॉब्स की मांग काफी बढ़ने वाली है तो डिजिटल मार्केटिंग के लिए लगातार सीखते रहने का प्रयास कर सकते हैं।
तो दोस्तों आपको यह आर्टिकल “डिजिटल मार्केटिंग क्या है?डिजिटल मार्केटिंग कैसे काम करती है?डिजिटल मार्केटिंग के कितने प्रकार होते हैं?डिजिटल मार्केटिंग में करियर/जॉब्स के क्या अवसर मौजूद है और डिजिटल मार्केटिंग कोर्स कैसे सीख सकते हैं ?इसके क्या फायदे हैं”।
आपको बहुत पसंद आया होगा अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो कृपया इसे सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले और इसे इस आर्टिकल में आपको कोई प्रॉब्लम है तो आप उसे कमेंट बॉक्स में पूछना ना भूलें।

Tags:-डिजिटल मार्केटिंग क्या है,डिजिटल मार्केटिंग कैसे करे,डिजिटल मार्केटिंग में करियर,डिजिटल मार्केटिंग कोर्स,ऑनलाइन मार्केटिंग क्या है,DIGITAL MARKETING IN HINDI,DIGITAL MARKETING KYA HAI,DIGITAL MARKETING TYPES IN HINDI FREE DIGITAL MARKETING COURSE IN HINDI


Monday, 24 December 2018

Merry Christmas Images,Wishes 2018|Whatsapp Status, Wishes Images On Christmas

 क्रिसमस 25 दिसंबर को हर साल मनाया जाता है आज हम आपके लिए क्रिसमस डे पर कुछ खास Christmas Images, Wishes का कलेक्शन पोस्ट करने जा रहे हैं|


Christmas-Images-Wishes

Christmas-Images-Wishes

Christmas-Images-Wishes

Christmas-Images-Wishes

Christmas-day-Images-Wishes

Christmas-day-Images-Wishes

Christmas-day-Images-Wishes

Christmas-day-Images-Wishes

Christmas-day-Images-Wishes

CHRISTMAS DAY IMAGES FOR COUPLES
Christmas-Images-Wishes-Couple

Christmas-Images-Wishes-Couple


दोस्तों अगर आपको क्रिसमस डे के फोटो पसंद आए तो शेयर करना न भूले।




TAGS:- christmas images download,christmas images free,merry christmas images 2018,christmas images cartoon,christmas images to print,religious christmas images,free christmas images clip art,merry christmas images hd

Sunday, 23 December 2018

IOT क्या है और कैसे काम करती है? INTERNET OF THINGS IN HINDI!



Technology आज हमारी जिंदगी में एक अहम रोल निभा रही है और टेक्नोलॉजी का प्रसार पिछले 20 सालों में काफी तेजी से बड़ा है जिससे पूरी दुनिया एक दूसरे के पास आ गई है लेकिन आने वाले समय में टेक्नोलॉजी में कई बड़े बदलाव देखने को मिलेगे जो कि लोगों की जिंदगी को बहुत ही आसान बना देंगे।इन्हें टेक्नोलॉजी की बढ़ते क्रम में एक एडवांस टेक्नोलॉजी है जो कि अभी बहुत ही कम स्तर पर उपलब्ध है लेकिन आने वाले समय में इसका प्रसार बहुत तेजी से देखने को मिलेगा और इसे एडवांस टेक्नोलॉजी का नाम है इंटरनेट ऑफ थिंग्स(IOT)! अगर आप इस टेक्नोलॉजी के बारे में जानना चाहते हैं कि “IOT क्या है?IOT कैसे काम करता है?IOT DEVICES,IOT TECHNOLOGY कोन कोनसी है?” Internet of things In Hindi आदि के बारे में हम इस आर्टिकल में निम्न बातें जानने को मिलेगा।



Internet-of-things-in-hindi
IOT(INTERNET OF THINGS)

IOT क्या है?

IOT की Full Form है-INTERNET OF THINGS।

इंटरनेट ऑफ थिंग्स दो शब्दों से मिलकर बना है!इंटरनेट से तात्पर्य है वह जाल जो दो कंप्यूटर को एक नेटवर्क से जोड़ता है और थिंग्स है भौतिक वस्तुएं।
अर्थात इंटरनेट ऑफ थिंग्स से तात्पर्य है की
हमारे आस पास उपलब्ध भौतिक वस्तुओं(Home appilanc,Light,Fan etc) के जाल को एक इंटरनेट के माध्यम से इस प्रकार Connected(जोड़) कर दिया जाए कि वे एक दूसरे से Communication(संवाद) कर सके”
यह प्रक्रिया ही InterNet Of Things कहलाती हैं।
IOT एक दूसरे डिवाइस को  DATA SEND का काम करती है।
इंटरनेट ऑफ थिंग्स की बात की जाए इस टेक्नोलॉजी से जुड़ने वाले भौतिक वस्तुओं  की संख्या 2020 तक 50 अरब हो जाएगी।

Exmaple:- उदाहरण के तौर पर यदि आपके घर में फ्रिज है और उसे इंटरनेट के द्वारा कनेक्टेड कर दिया जाए तो वह अपने अंदर सब्जी/किसी अन्य चीज की कमी होने पर वह खुद ही सब्जी का आर्डर कर देगा।

इसके अलावा मान लीजिए कि आप अपने ऑफ़िस से  कार में बैठ कर के घर के लिए रवाना हो रहे है और आप  चाहते हैं की घर पर पहुचते ही आपको Ac, Cooler, Fan, Lights On मिले तो इसे इंटरनेट ऑफ थिंग्स के माध्यम से On/Off किया जा सकता है।क्योकि आपकी कार का सेंसर आपके घर पर लगे उपकरण से जुड़ा होगा और वह आपके कार में बैठने पर घर पर लगे उपकरणों को सिगनल देगा कि अपने घर के लिए रवाना हो चुके हैं और कमांड के तौर पर आपके घर के उपकरण घर पहुंचने से पहले ही on हो जाएंगे।

IOT(INTERNET OF THINGS) कैसे काम करेगा?

IOT(INTERNET OF THINGS) सिंपल तरीके से काम करेगा।इसमें जुड़ी हुई वस्तुएं आपस मे बायनरी पद्धति(0,1) के द्वारा सिगनल्स भेजेगी और उपकरण/Device आउटपुट मिलने पर उसे समझकर उसके अनुसार उपकरण ऑन या ऑफ हो जाएगा।

अभी तक व्यक्ति स्माटफोन/कंप्यूटर व इंटरनेट के माध्यम से एक दूसरे से कनेक्ट है लेकिन internet of things के माध्यम से व्यक्ति अपने आसपास की सभी वस्तुओं से भी जुड़ जाएगा जो कि On/Off होती है।

इस तकनीक के द्वारा अपने सभी उपकरणों को स्मार्टफोन से कनेक्टेड किया जा सकेगा जिसके द्वारा आप अपने घर के सभी Devices को अपने मोबाइल फोन के द्वारा कंट्रोल कर पाएंगे लेकिन यह तभी होगा जब आपके मोबाइल फोन का Ip Adress इन डिवाइस  के साथ जुड़ा हुआ हो।

IOT का इतिहास(HISTORY OF IOT):-

IOT का सर्वप्रथम उपयोग 1982 में Carnegie Mellon University के रिसर्चर ने एक डिवाइस बनाकर किया था। इंटरनेट ऑफ थिंग्स भूतेश्वर ड्राइवर आने वाले समय में यह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस(AI) से भी कनेक्टेड हो जाएगा।

IOT SENSORS:-

IOT SENSOR के माध्यम से काम करता है और इन SENSOR के माध्यम से डिवाइसेज को अपनी INTELLIGENCY के अनुसार कमांड भेजता है।तो जानते है की TOP IOT SENSOR कोनसे है जो प्रयोग में लाये जाते है।
◆Temperature Sensor
◆Proximity Sensor
◆Pressure Sensor
◆Water Quality Sensor
◆Chemical Sensor
◆Gas Sensor
◆Smoke Sensor
◆Level Sensor
◆Gyroscope Sensor
◆Image Sensor
◆Motion Detection Sensor
यह Sensor Iot में प्रमुखता से काम लिए जाते है।

IOT PROJECT/IOT पर काम करने वाले डिवाइस:-

INTERNET OF THINGS के द्वारा कई प्रकार के अनगिनत उपकरणों को एक दूसरे से जोड़ा जा सकता है जो कि On/Off होते हो।

●Connected WearAble:- Fitness Band,Smart Watches, Smart Glasses
●Connected Home Appliance:- घर पर उपयोग में आने वाले उपकरण(फ्रिज,फैन,कूलर etc)
●Connected Cars:- Cars जो कि इंटरनेट के माध्य्म से जूड़ी हो।



INTERNET OF THINGS को अपने आसपास कई तरीको में यूज करते हुए देख जा सकता हैं,जिसके बारे में बताने जा रहे है।

● वाटर लेवल इंडिकेटर:- जिनका उपयोग पानी के लेवल को मापने के लिए किया जाता है।
● फिटनेस बैंड:-जिनकी उपयोग से सेंसर द्वारा शरीर की सभी गतिविधियों पर नजर रखी जाती है।
● air pollution metre:- एयर पोलूशन मीटर के द्वारा बाहर हवा में कितना प्रदूषण है,इसका पता लगाया जाता है।
●GOOGLE HOME और ALEXA:- Google home or Alexa भी इंटरनेट ऑफ थिंग्स पर कार्य करते हैं इसमें बोलकर कुछ कमांड दी जाती है तो वह कार्य गूगल और Alexa करते हैं।
●Anti Theft Vehicle:- चोरी होने से बचाने के लिए एंटी थेफ्ट व्हीकल को इंटरनेट ऑफ थिंग्स पर डिजाइन किया जा सकता है जो किसी के वाहन को छूने भर से आपके मोबाइल पर नोटिफिकेशन भेज दे।
●Smart Camera:- आईआईटी के द्वारा स्मार्ट कैमरा बनाया जा सकता है।
● IOT के द्वारा बाहर का तापमान और आद्रता को मीटर के द्वारा मापा जा सकता है।
ADVANTAGE OF IOT(IOT के फायदे):-
टेक्नोलॉजी कितनी ही एडवांस क्यो न हो,उसके फायदे और नुकसान होते हैं जिन्हें आप का जान सकते हैं।

●Increase Efficiency( क्षमता बढ़ेगी):- आईआईटी के सारे अगर हम IOT के सहारे डिवाइसेज को चलाना सीख जाते हैं और उन्हें एक दूसरे से कनेक्ट कर पाते हैं तो यह हमारे लिए हर काम को आसान कर देगा और हम अपनी क्षमता का ज्यादा से ज्यादा उपयोग कर पाएंगे।

●Minimize Effort/Save Time:- जिन फिजिकल टास्क करने में हमें बोल कर टाइम देना होता है आईटी के बाद उन फिजिकल टास्क को करने के लिए हमें कम Effort की आवश्यकता होगी।इसी के साथ ही IOT टेक्नोलॉजी हमारे समय की बचत भी करेगी।

●Improve Security:- IOT सिस्टम एक दूसरे से इंटरकनेक्टेड होगा तो यह ज्यादा क्षमता से अपने फैसले कर पाएगा और यह ज्यादा सुरक्षा प्रदान करेगा।
DisAdvantage Of IOT(IOT के नुकसान):-
●Security:- आईओटी प्रोजेक्ट में सभी डिवाइसेज एक दूसरे से इंटरकनेक्ट रहेंगे तो उन पर बाहरी अटैक का खतरा बना रहेगा और किसी भी नेटवर्क में हैकर सेंड लगाकर हमारी सुरक्षा को प्रभावित कर सकते हैं और जाहिर सी बात है इस टेक्नोलॉजी के बढ़ने के साथ-साथ हैकिंग के मामले भी देखने को मिलेंगे।

●Privacy:- बिना किसी एक्टिव यूजर के आईटी डिवाइस एक दूसरे से कनेक्ट रहेंगे तो वह उस व्यक्ति के बारे में ज्यादा से ज्यादा पर्सनल डाटा इकट्ठा कर पाएंगे और लोगों की प्राइवेसी के लिए एक खतरा साबित हो सकता है।

●Complexity:- आईटी टेक्नोलॉजी को एक बड़े पैमाने पर लाना,Maintaining, Designing, और Doveloping एक बहुत ही जटिल काम होगा।


में आशा करता हूं कि आपको मेरे द्वारा बताई गई जानकारी पसंद आई होगी।इस आर्टिकल में बताया है कि “IOT क्या है?IOT कैसे काम करता है? INTERNET OF THINGS IN HINDI”!आपको पसंद आया होगा!अगर आपको पसंद आया है तो इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूलें और हमारे व्हाट्सएप ग्रुप को जरूर ज्वॉइन करें!

Monday, 17 December 2018

इंटरनेट पर ऑनलाइन नक्कालों/धोखेबाज़ से रहो सावधान।Be aware of these Online Frauds on internet hindi

इंटरनेट पर इन नक्कालों/धोखेबाज़ से रहो सावधान।Be aware of these Online Frauds on internet
वर्तमान में सभी लोग इंटरनेट पर निर्भर है लेकिन इंटरनेट पर कुछ धोखेबाज़(Fraud) लोग भी उपलब्ध रहते हैं,जो लोगों को ऑनलाइन तरीके से लूटने का काम करते हैं।अभी वर्तमान में फेक न्यूज़ के प्रति काफी जागरुकता देखने को मिल रही है और व्हाट्सएप जैसे एप्स इसके जागरूकता के प्रति कैंपेन भी रहे हैं लेकिन इंटरनेट पर इनके अलावा भी कई प्रकार के Online Frauds व फेक चीज़े देखने को मिलती है तो जाहिर सी बात है कि इससे हमें जागरूक व सावधान रहना चाहिए।इस बारे में हम इस आर्टिकल में बताने जा रहे हैं जो कि Fraud अक्सर देखने को मिलते है अगर इस पोस्ट से कई लोग जागरूक होते हैं तो इन फ्रॉड से बचे रहने में हमेशा मदद मिलेगी क्योंकि यह Frauds हमें किसी भी रूप में देखने को मिल सकते हैं।इन Online Frauds के बारे में जानने के लिए कृपया इस पोस्ट को पूरा पढ़ें।

2017 के एक सर्वे के मुताबिक इंडिया में लगभग 48% लोग ऑनलाइन फ़्रॉड्स का शिकार होते हैं।यह सर्वे एशिया पेसिफिक इनसाइट रिपोर्ट के द्वारा किया गया था।इसके आधार पर इंडिया में हर दूसरा व्यक्ति ऑनलाइन फ़्रॉड्स का शिकार है।एशिया में ऑनलाइन फ़्रॉड्स का नंबर वन शिकार इंडोनेशिया है।




Be-Aware-Online-Fraud-hindi
Be Aware with Online Frauds


Be aware Of These Online Frauds On Internet( इंटरनेट पर इन ऑनलाइन धोखेबाजी से सावधान)

हम इस आर्टिकल में कुछ ऑनलाइन धोखेबाज़ी के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं जिनके बारे में हर व्यक्ति को जानकारी होनी चाहिए और लोगों को इसके बारे में जागरूक करना चाहिए।

●जॉब ऑफर्स(Job Offers):-

लोगों को ऑनलाइन ईमेल द्वारा या सोशल मीडिया पर मैसेज के द्वारा जो फर्जी जॉब के offers मिलते रहते हैं। इन फर्जी जॉब ऑफर्स में आपको किसी कंपनी के द्वारा इंटरव्यू/अपॉइंटमेंट के लिए भुगतान करने को बोला जाता है।अगर आपके पास ऐसे ऑफर आते है तो ज्यादातर नकली होते है।फर्जी जॉब ऑफर्स में आमतौर पर आपके रोल,पद,वेतन आदि के बारे में पूरी विस्तृत जानकारी नहीं होती है और कोई भी कंपनी सिक्योरिटी डिपॉजिट के नाम पर आप से एडवांस पैसा नहीं लेती है!

●सोशल मीडिया प्रोफाइल्स(Social Media Profiles):-

सोशल मीडिया में कोई फेक प्रोफाइल्स उपलब्ध रहती है जो कि अपने ओपिनियन के द्वारा दूसरों को  भ्रमित करने का काम करती है और इन प्रोफाइल्स पर या तो स्टॉक फोटोज या फोटो ही नहीं होती है।इसके अलावा कई बोट अकाउंट्स होते हैं जो कि जोर-शोर से अपना ओपिनियन रखते हैं लेकिन वह फेक होते हैं।


●रिव्यु(Review):-

लोग ऑनलाइन शॉपिंग साइट,होटल बुकिंग,बुक्स आदि की खरीदारी करते समय ऑनलाइन विचार भरोसा करते हैं लेकिन अक्सर किसी भी साइट्स पर फेक रिव्यु की वजह से लोग भ्रमित हो जाते हैं।यदि किसी भी साइट पर उस प्रोडक्ट के बारे में व्यक्ति विशेष के द्वारा उस प्रोडक्ट के लिए बढ़ा चढ़ाकर बातें की गई है तो ऐसे Reviews से हमेशा सावधान रहें।

●एप्प्स(APPS):-

प्ले स्टोर/एप स्टोर पर ऐसे कई प्रकार के फेंक एप्स उपलब्ध रहते हैं जो यूज़र्स को इंस्टॉलेशन करने के लिए प्रेरित करते हैं। लेकिन इन थर्ड पार्टी एप्स पर मैलवेयर,डाटा चोरी आदि का खतरा हमेशा बना रहता है।इसी के साथ इन पर अंधाधुन विज्ञापन चलते रहते है।

●ऑनलाइन सर्वे साइट्स(Online Survey Sites):-

इंटरनेट पर ऑनलाइन सर्वे साइट्स उपलब्ध है जो कि फेक है।यह फेक साइट लोगों से लुभावने वादे करती है और उन्हें बड़े गिफ्ट,वेकेशन पैकेज या ज्यादा पैसा देने का वादा देकर रिव्यु ले लेती है और फिर उन्हें धोखा देकर बिना वादा पूरे किए चली जाती है।अगर कोई वेबसाइट ऐसे लुभावने वादे करती है या फिर आपसे निजी जानकारी मांगती है तो उसे देने से बचें और केवल सही ऑनलाइन सर्वे साइट्स पर काम करने का प्रयास करें।

●Spam/Phishing Emails(फिशिंग इमेल्स):-

हम सभी ऑनलाइन आने वाले फेक ईमेल्स व फिशिंग इमेल से परिचित है तो किसी भी ई-मेल को ओपन करने से पहले उसे ध्यान से पढ़ें और किसी भी लिंक पर क्लिक करने से पहले इस बात का ध्यान रखें की हो सकता है इन अपरिचित लिंक्स पर क्लिक करने पर आपके बैंक डीटेल्स की जानकारी या आपके मोबाइल/कंप्यूटर में मैलवेयर इनस्टॉल होने का खतरा बढ़ जाता है।

●नकली प्रोडक्ट(Fake Product):-

ई-कॉमर्स साइट से डिलीवरी होने वाले प्रोडक्ट मै से लगभग आधे प्रोडक्ट नकली होते हैं।तो इससे बचने के लिए ऑनलाइन शॉपिंग करने से पहले सभी प्रोडक्ट ध्यान से चेक करें और उनका विश्लेषण करें और एक बात ध्यान रखें कि वह प्रोडक्ट उस साइट द्वारा  Assured हो और किसी भी नए थर्ड पार्टी सेलर से प्रोडक्ट खरीदने से बचें और हमेशा एसे प्रोडक्ट खरीदने से बचें जोकि बहुत ज्यादा डिस्काउंट दे रहे हो और उस पर विश्वास करना मुश्किल हो।

●Scareware(स्केयरवेयर)

स्केयरवेयर ऐसे पॉपअप होते हैं जो कि ऐसे पॉप अप एड्स होते हैं जो कि आपके मोबाइल फोन में कोई गड़बड़ी/वायरस होने की पुष्टि करते हैं और उसके बदले में पैसे/फिरौती की मांग करते हैं तो ऐसे पॉप अप एड्स से हमेशा बच कर रहे और इनसे बचने के लिए एक अच्छा एंटीवायरस इंस्टॉल रखें।



आप इन सब चीजों का ध्यान रखते हैं तो जाहिर सी बात आ गई ऑनलाइन फ़्रॉड्स का शिकार नहीं होगे तो दोस्तों आपको यह पोस्ट “Be aware Of These Online Frauds On Internet( इंटरनेट पर इन ऑनलाइन धोखेबाजी से सावधान)” कैसी लगी हमें कमेंट के माध्य्म से जरूर बताएं और इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले।