राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध Essay On National Bird Peacock In Hindi

आज हम आपके लिए भारत के राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध (Essay On National Bird Peacock In Hindi) के बारे में चर्चा करेंगे।

राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध (Essay On National Bird Peacock In Hindi)

Essay On National Bird Peacock In Hindi
राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध (Essay On National Bird Peacock In Hindi)

मोर पक्षी भारत देश के साथ-साथ हमारे पड़ोसी देश का भी राष्ट्रीय पक्षी है।मोर पक्षी को सांप खाना बहुत प्रिय है। मोर के अद्भुत सौंदर्य व देश के सभी भागो में इसकी उपलब्धता के कारण व आम लोगो द्वारा आसानी से पहचाने जाने से भारत सरकार ने 26 जनवरी,1963 को इसे राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया। हमारे पड़ोसी देश म्यांमार का राष्ट्रीय पक्षी भी मोर ही है।

राष्ट्रीय पक्षी मोर को पक्षियों में सबसे सुंदर एवं आकर्षक माना जाता है एवं मोर को पक्षियों का राजा भी कहते हैं।

मोर को अलग-अलग नाम से भी पुकारते हैं जैसे संस्कृत भाषा में इसको मयूर कहते हैं एवं अरबी भाषा में मोर को ताऊस कहते हैं एवं अंग्रेजी भाषा में मोर को ब्लू पीफाउल ( Blue Peafowl) या पीकॉक ( Peacock) कहते हैं।मोर बहुत ही शांत व शर्मीले किस्म के होते है।

मोर का वैज्ञानिक नाम (Scientific Name Of Peacock In Hindi) पैवो क्रिस्टेटस (Pavo cristatus) है। 

मोर ज्यादातर 3-4 मोरों के साथ रहता है।यह राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा जैसे राज्यों में बहुतायत में पाया जाता है क्योकि मोर ज्यादातर शुष्क क्षेत्रों में ही रहना पसंद करता है। मोर मौसम और वातावरण के अनुसार अपने आप को ढाल भी सकता है इसीलिए यह बर्फीले और पहाड़ी क्षेत्रों में भी बड़ी ही सरलता से अपना जीवन यापन कर सकता है।

Related:  BODMAS Formula In Hindi बोडमास का नियम ,फुल फॉर्म व उदाहरण

मोर का जीवनकाल लगभग 15 से 20 वर्ष होता है।

मोर विभिन्न रंगों में पाया जाता है जैसे नीला ,सफेद , हरा एवं जामुनी, परंतु अधिकतर यह नीले रंग में पाया जाता है।  

मोर अधिकतर हरे भरे खेतों के पास एवं जंगलों में रहते हैं।

मोर कभी भी अपना घोंसला नहीं बनाता है वह अधिकतर समय जमीन पर ही रहते हैं।

मोर पक्षी बहुत ही आकर्षक होते हैं, इनकी लंबाई 1.5 से 2 फुट होती है। 

मोर के सिर पर एक चमकीली एवं रंग बिरंगी कलंगी होती है जो बहुत ही आकर्षक होती है जबकि मोरनी के सिर पर कोई कलंगी नहीं होती है। 

मोर , मोरनी की अपेक्षा अधिक सुंदर होते हैं।

मोर के गले पर बैगनी रंग होता है एवं इसके पंख हरे रंग के होते हैं जिसमें चांद जैसा आसमानी हरे रंगो ,पीले रंग, बैंगनी रंग से सजावट होती है।

मोर पक्षी को भारतीय संस्कृति में पवित्र माना गया है। मोर के पंख जिसे मोरपंख कहा जाता है, को भगवान श्रीकृष्ण ने अपने मुकुट पर शोभा बढ़ाने के लिए धारण किया है।

वर्षा ऋतु के समय मोर अपने नाच से सब के मन मोह लेता है।

नर मोर के सिर पर बड़ी सी कलंगी बनी होती है जो देखने में मुकुट की तरह लगती है और इतना सुंदर लगता है कि जिसका कोई जवाब नहीं है।

Related:  राष्ट्रीय एकता पर निबंध Essay On National Unity In Hindi

मोर के पंख एक तरीके से गहने की तरह दिखते हैं , मोर का पंख सभी लोगों को पसंद आता है।

यह बहुत ही निराशाजनक है कि मोर को मांस के लिए इसका किन्ही- किन्ही जगहों पर शिकार किया जाता है।

मोर के शिकार पर रोकथाम के लिए भारत सरकार ने 1972 में वन्य जीव संरक्षण अधिनियम में संरक्षण दिया है।

तो आपको ” Essay On National Bird Peacock In Hindi “ कैसा लगा हमे कमेंट करके बताये और हमारे ब्लॉग ऐसे ही Eassy In Hindi पड़ने के लिए हमसे जुड़े रहे।

Share On :-
    Share on:                        

में अपने शौक व लोगो की हेल्प करने के लिए Part Time ब्लॉग लिखने का काम करता हूँ और साथ मे अपनी पढ़ाई में Bed Student हूँ।मेरा नाम कविश जैन है और में सवाई माधोपुर (राजस्थान) के छोटे से कस्बे CKB में रहता हूँ।


Get Regular Updates Of New Post On Gk ,Facts , Technology And Self Improvement.


Leave a Comment