राष्ट्रीय एकता पर निबंध Essay On National Unity In Hindi

आज इस पोस्ट में हम “राष्ट्रीय एकता पर निबंध Essay On National Unity In Hindi” लिखने जा रहे है।सरदार वल्लभ भाई पटेल केे जन्म दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय एकता दिवस 31 अक्टूबर को मनाया जाता है।

राष्ट्रीय एकता पर निबंध Essay On National Unity In Hindi

भारत दुनिया का सबसे बड़ा गणतंत्र है।किसी भी राष्ट्र की प्रगति और उसके निर्माण में राष्ट्रीय एकता का बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान होता है। राष्ट्रीय एकता किसी भी राष्ट्र के निर्माण के लिए बहुत ही आवश्यक है एवं बिना राष्ट्रीय एकता के राष्ट्र निर्माण  बहुत ही मुश्किल है। 

राष्ट्रीय एकता पर निबंध Essay On National Unity In Hindi
Essay On National Unity In Hindi

भारत को एक रूप में पिरोने के लिए महापुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के अथक प्रयासों से ही हमारे राष्ट्र को वर्तमान स्वरूप मिला है।उनके प्रयासों के कारण ही विभिन्न रियासतों के कई राजाओं को एक रुप कर हमारे राष्ट्र का निर्माण किया। 

हमारे प्यारे देश भारत की पहचान एक ऐसे राष्ट्र के रूप में है जिसमें अलग-अलग धर्मों के लोग एकता बनाए हुए एक दूसरे के साथ बड़े भाई चारे के साथ रहते हैं। हमारा देश विविधता में एकता का एक उदाहरण है। भारत में विभिन्न जातियों के लोग विभिन्न भाषाएं बोलते हैं।अपनी अलग-अलग परंपरा होने के बावजूद भी भारतीय एकता बनाकर रखते हैं। अलग-अलग संस्कृति होने के बाद भी हमारे देश में एकता है, जो हमारे लिए गर्व की बात है।

राष्ट्रीय एकता से मतलब है कि लोगों में राष्ट्र के प्रति प्रेम समर्पण  हो एवं आपस में भाईचारा हो एक दूसरे धर्म के प्रति सम्मान हो एवं राष्ट्र के प्रति प्रेम अपनत्व की भावना सबसे ऊपर हो ।

एक राष्ट्र के निर्माण के लिए राष्ट्रीय एकता बहुत ही आवश्यक है। हमारे देश में 1652 भाषाएं विभिन्न प्रांतों में बोली जाती है एवं हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई आदि कई अन्य धर्म है। इतनी विविधता के साथ राष्ट्रीय एकता होना भारत देश के लिए बहुत ही आवश्यक है। हमारे देश की आजादी के पीछे भी राष्ट्रीय एकता ही मुख्य वजह थी जिससे हमें एक होकर अंग्रेजो के खिलाफ 1947 में आजादी मिली थी।

राष्ट्रीय एकता ना होने से हमारे भारत देश के राजाओं में एकता ना होने की वजह से कई बार विदेशी शासकों ने अपने राज्य स्थापित किए । भारतीय जनता के मध्य अलगाव की एक चरण स्थिति है जिसके अंतर्गत लोग सांप्रदायिक व धार्मिक रूप से एक दूसरे से बनाए बुराई बुराई लेकर बैठे हुए हैं।

भारत में अलग-थलग होने के कारण हमारी ढेर सारी सामाजिक समस्याएं बनी हुई है जैसे 1947 में भारत का बंटवारा हुआ उसके बाद 1992 में बाबरी मस्जिद को तोड़ा गया और हिंदू और मुस्लिमों के बीच दंगे । इस तरह की सामाजिक समस्याएं हमारे भारत को अलगाव की तरफ लेकर जा रही है, जिस से बचना हमारे लिए बहुत ही आवश्यक है। हमारे पूर्वजों द्वारा भी कई बार कहा गया है कि एकजुट रहें तभी हम मजबूत होंगे, पुरानी कहावत है एकता में बल है। एकजुट होकर कोई भी लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है। 

विविधता में एकता लाने के लिए भारत सरकार द्वारा हमेशा से कानून बनाते आ रहे है लेकिन यह मानव दिमाग है इसमें विविधता में एकता लाना बहुत ही कठिन कार्य है। हमारे देश में राष्ट्रीय एकता के लिए भावनात्मक एकता लाना अत्यंत आवश्यक है। भारत सरकार भावनात्मक एकता बनाए रखने के लिए हमेशा से प्रयास करती आ रही है ताकि विविधता में एकता लाई जा सके।

राष्ट्रीय एकता से प्रत्येक व्यक्ति को लाभ मिलता है।राष्ट्रीय एकता बनाए रखने से ही हमारा देश एक अच्छे तरीके से चल पाता है। एकता बनाए रखने से ही व्यक्ति समाज में सही तरीके से अपना स्थान बना पाता है। लड़ाई रखने में समाज में विविधता में उत्पन्न होती है और वह समाज कभी भी एकता का सामना नहीं कर सकता।

एकता नहीं होने से समाज की बहुत बड़ी हानि होती है।एकता के अभाव में एक देश या समाज एक रोगी की तरह जीवन हो जाता है।भारत में राजाओं में एकता नहीं होने की वजह से ही हमारे देश पर कई ब का आदि थे। वह कई वर्षों तक हमारे देश में शासन करते रहे हमारी एकता की वजह से ही हमारा देश कई सदियों तक अंग्रेजों का शासन हुआ।

Conclusion Essay On National Unity In Hindi

अतः इस तरह की समस्याओं से बचने के लिए हमेशा राष्ट्रीय एकता को सर्वोपरि रखना होगा। हमें राष्ट्र निर्माण के लिए सदैव तत्पर रहना चाहिए।प्रत्येक भारतवासी को यह आवश्यकता है कि वह प्रतिदिन एकता का पाठ की पढ़ाई करें, एकता को जीवन में उतारें एवं अपने राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान दें।

   

में अपने शौक व लोगो की हेल्प करने के लिए Part Time ब्लॉग लिखने का काम करता हूँ और साथ मे अपनी पढ़ाई में Bed Student हूँ।मेरा नाम कविश जैन है और में सवाई माधोपुर (राजस्थान) के छोटे से कस्बे CKB में रहता हूँ।

Related Posts

   

Leave a Comment