Oxide In Hindi ऑक्साइड की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

आज इस आर्टिकल में हम बात करेंगे रसायन विज्ञान के Topic ऑक्साइड (Oxide In hindi) के बारे में और जानेंगे कि “ऑक्साइड क्या है और कितने प्रकार के होते है और ऑक्साइड से बने योगिक कोन कोनसे है?”

Oxide In Hindi ऑक्साइड
Oxide In Hindi

ऑक्साइड (Oxide In Hindi) 

ऐसे यौगिक जिनमें कम से कम एक ऑक्सीजन परमाणु उपस्थित हो, ऑक्साइड कहलाते है। जैसे –

कार्बन मोनोऑक्साइड (CO)
कार्बन डाइऑक्साइड (CO2)
मैग्निशियम ऑक्साइड (MgO)
सोडियम ऑक्साइड (Na2O)

★ फ़्लोरिन एकमात्र ऐसा तत्व है जिसका ऑक्साइड नहीं होता है क्योंकि फ्लोरीन की विद्युत ऋणता ऑक्सीजन से अधिक होती है।

ऑक्साइडस के प्रकार (Types Of Oxide In Hindi)

रासायनिक प्रकृति के आधार पर ऑक्साइड के प्रकार

रासायनिक प्रकृति के आधार पर ऑक्साइड चार प्रकार के होते हैं।

  1. अम्लीय ऑक्साइड
  2. क्षारीय ऑक्साइड
  3. उभयधर्मी ऑक्साइड
  4. उदासीन ऑक्साइड

अम्लीय ऑक्साइड (Acidic Oxide)

ऐसे ऑक्साइडस जो जल से क्रिया करके अम्ल का निर्माण करते हैं, अम्लीय ऑक्साइड कहलाते हैं।

अम्लीय ऑक्साइड अधात्विक होते है। जैसे – CO2, SO2, SO3 , NO2 इत्यादि।

Related:  (थर्मामीटर) तापमापी क्या है? तापमापी के प्रकार

उदाहरण:-

H2O + CO2 ➡️ H2CO3 (कार्बोनिक अम्ल)
H2O + SO3 ➡️ H2SO4 (सल्फ्यूरिक अम्ल)
H2O + SO➡️ H2SO3 (सलफ़्यूरस अम्ल)
H2O + NO➡️ HNO3 (नाइट्रिक अम्ल)

क्षारीय ऑक्साइड (Alkali Oxide)

ऐसे ऑक्साइड जिनकी जल से क्रिया कराने पर श्रारो का निर्माण होता है, क्षारीय ऑक्साइड कहलाते हैं।

ये धात्विक ऑक्साइड होते है।

जैसे - Na2O (सोडियम ऑक्साइड)
         MgO (मेगनीसियम ऑक्साइड)
         CaO (कैल्शियम ऑक्साइड)

उदाहरण:-

H2O + Na2O ➡️ 2NaOH (सोडियम हाइड्रोक्साइड)
H2O + K2O  ➡️ 2KOH (पोटेशियम हाइड्रोक्साइड)
H2O + CaO ➡️ Ca(OH)2 ( कैल्शियम हाइड्रोक्साइड)
H2O + MgO ➡️ Mg(OH)2 ( मैग्निशियम हाइड्रोक्साइड)

उभयधर्मी ऑक्साइड (Amphoteric Oxides)

ऐसे ऑक्साइड जो अम्लीय एवं क्षारीय दोनों गुण दर्शाते हैं, उभयधर्मी ऑक्साइड कहलाते हैं।

उदासीनीकरण अभिक्रियाये अम्लों के साथ श्रारो के समान व्यवहार करते हैं।
ये श्रारो के साथ अम्लों के समान व्यवहार करते है।

जैसे – Al2SO3 ,SiO2

◆एलुमिनियम ऑक्साइड का प्रयोग रेल की पटरी में आई दरारों को भरने में करते हैं।

◆सिलिकन डाई ऑक्साइड का प्रयोग सिलिका/ रेत/ बजरी के रूप में व धातु कर्म में गालक के रूप में करते है।

गालक (Flux) – खनिजों से अयस्क तथा अयस्क से शुद्ध धातु अलग करने की प्रक्रिया धातु कर्म है। खनिजों में कुछ जटिल अगलनीय अशुद्धियां होती है ,इन्हें अलग करने के लिए है या गलाने के लिए प्रयुक्त पदार्थ फ्लक्स या गालक कहलाता है।

Related:  Waste Management in Hindi कचरा प्रबंधन की 4 विधि ,अपशिष्ट क्या है?

उदासीन ऑक्साइड (Neutral Oxide)

ऐसे ऑक्साइड जो न तो अम्लीय होते हैं, न हीं श्रारिय होते हैं, उदासीन ऑक्साइड कहलाते हैं। जैसे- शुद्ध जल (H2O) ,कार्बन मोनोऑक्साइड (CO) इत्यादि।

ऑक्सीजन परमाणु की संयोजकता के आधार पर

ऑक्सीजन परमाणु की संयोजकता के आधार पर ऑक्साइड तीन प्रकार के होते है।

  1. सामान्य ऑक्साइड (General Oxide)
  2. पर ऑक्साइड (PerOxide)
  3. सुपर ऑक्साइड (Super Oxide)

सामान्य या सरल ऑक्साइड 

ऐसे ऑक्साइड जिसमें ऑक्सीजन परमाणु की संयोजकता -2 होती है, सामान्य या सरल ऑक्साइड कहलाते हैं।

जैसे – H2O, MgO, Na2O, CaO, ZnO, Li2O, BeO ,K2O इत्यादि।

वर्ग 1 श्रार धातुओ से निर्मित सामान्य ऑक्साइड का सामान्य सूत्र M2O होता है। जहाँ M = श्रार धातु।जैसे H2O,Li2O।
वर्ग 2 (मृदा श्रारिय धातु) के सरल ऑक्साइड का सामान्य सूत्र MO होता है।जैसे MgO ,CaO etc

परॉक्साइड

ऐसे ऑक्साइड जिनमे ऑक्सिजन की परमाणु संयोजकता -1 होती है, परॉक्साइड कहलाते है।

जैसे – H2O, Na2O2, K2O2, Mg2O etc

सुपर ऑक्साइड

ऐसे ऑक्साइड जिनमें ऑक्सीजन की संयोजकता -½ होती है, सुपर ऑक्साइड कहलाते हैं।

जैसे – NaO2 , KO2

आशा करता हु आपको “ऑक्साइड क्या है? ऑक्साइड के प्रकार (Oxide In Hindi)” से संबंधित पूरी जानकारी मिली होगी। अगर कोई सवाल है तो comment Box में पूछ सकते है।

Share On :-
    Share on:                        

में अपने शौक व लोगो की हेल्प करने के लिए Part Time ब्लॉग लिखने का काम करता हूँ और साथ मे अपनी पढ़ाई में Bed Student हूँ।मेरा नाम कविश जैन है और में सवाई माधोपुर (राजस्थान) के छोटे से कस्बे CKB में रहता हूँ।

   

Leave a Comment