संसाधन क्या है? प्रकार ,महत्व Resources In Hindi

आज प्रत्येक व्यक्ति किसी न किसी रूप में संसाधनों पर निर्भर है।तो यदि आप नही जानते की “Resources In Hindi संसाधन क्या है? संसाधन कितने प्रकार के होते है?” तो आप इसकी सम्पूर्ण जानकारी इस पोस्ट में प्राप्त करेंगे।

Resources In Hindi Sansadhan
Resources In Hindi

संसाधन क्या है? (What Is Resources In Hindi) 

प्रत्येक वस्तु जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से हमारे काम आती है,संसाधन कहलाती है ।

प्राकृतिक संसाधन 

ऐसे संसाधन जो प्रकृति से प्राप्त होते हैं ,प्राकृतिक संसाधन कहलाते हैं। 

जैसे- वायु,जल,सूर्य का प्रकाश, मृद्धा इत्यादि।

संसाधनों का वर्गीकरण 

संसाधन मुख्यतः तीन आधारों में विभक्त होते हैं।

विकास एवं प्रयोग के आधार पर 

  1. वास्तविक संसाधन 
  2. संभाव्य संसाधन 

उद्गम या उत्पत्ति के आधार पर 

  1. जैव संसाधन 
  2. अजैव संसाधन 

वितरण या भंडारण के आधार पर 

  1. सर्व व्यापक संसाधन 
  2. स्थानिक संसाधन 

विकास में प्रयोग के आधार पर 

वास्तविक संसाधन

ऐसी वस्तुएं या संसाधन जिन की मात्रा हमें पता है एवं वर्तमान में हम इनका प्रयोग कर रहे हैं,वास्तविक संसाधन कहलाते है।

जैसे – जर्मनी में कोयला संयंत्र, पश्चिम एशिया में खनिज तेल की मात्रा, महाराष्ट्र में काली मिट्टी की मात्रा

संभाव्य संसाधन 

ऐसे संसाधन जिन की मात्रा हमें ज्ञात नहीं है तथा जो वर्तमान समय में प्रयोग व प्रचलन में नहीं है, संभाव्य संसाधन कहलाते हैं।

जैसे -लगभग 20 वर्ष पहले पवन चक्की संभाव्य संसाधन था।
लद्दाख में पाए गए यूरेनियम के भंडार संभावित संसाधन हैं।

उद्गम एवं उत्पत्ति के आधार पर

जैव संसाधन

सजीव व जीवित संसाधन, जीव संसाधन कहलाते हैं। 

जैसे- मानव, जीव-जंतु, पेड़-पौधे इत्यादि। 

अजैव संसाधन 

ऐसी वस्तुए या संसाधन जो निर्जीव हैं, अजैव संसाधन हैं। जैसे- वायु, जल, सूर्य का प्रकाश, मृदा इत्यादि।

वितरण तथा भंडारण के आधार पर

सर्वव्यापक संसाधन 

ऐसी वस्तु या संसाधन जो प्रत्येक स्थान पर आसानी से उपलब्ध हो, सर्व व्यापक संसाधन कहलाते हैं।

जैसे वायु ,प्रकाश, मृदा

स्थानिक संसाधन 

ऐसे संसाधन जो स्थान विशेष पर पाए जाते हैं, प्रत्येक स्थान पर नहीं मिलते ,स्थानिक संसाधन कहलाते है।

जैसे- यूरेनियम के भंडार ,तांबा, लोहा अन्य अयस्क, खनिज तेल ,कोयला इत्यादि 

संसाधनों को अच्छे से समझने के लिए इन्हें दो भागों में बांटा गया है।

नवीकरणीय संसाधन 

ऐसे संसाधन जिनका निर्माण एवं प्रयोग दुबारा हो सकता है अर्थात जिनकी पूर्ति द्वारा संभव है, नवीकरणीय संसाधन कहलाते है। जैसे सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, 

अनवीकरणीय संसाधन 

ऐसे संसाधन जिनका पुनर्निर्माण संभव ना हो अथवा जिन के निर्माण में बहुत अधिक समय (लाखों करोड़ों वर्ष)लगता हैं, अनवीकरणीय संसाधन है।जैसे- कोयला,पेट्रोलियम पदार्थ इत्यादि।

आशा करता हु की आपको “संसाधन क्या है? संसाधन कितने प्रकार के होते है? Resources In Hindi” की जानकारी पसन्द आयी होगी तो इसे शेयर करना न भूले।

Share your love
Default image
Kavish Jain

में अपने शौक व लोगो की हेल्प करने के लिए Part Time ब्लॉग लिखने का काम करता हूँ और साथ मे अपनी पढ़ाई में Bed Student हूँ।मेरा नाम कविश जैन है और में सवाई माधोपुर (राजस्थान) के छोटे से कस्बे CKB में रहता हूँ।

Articles: 186

Leave a Reply

Your email address will not be published.